loader

Aquarius कुम्भ राशिफल 2022 by Acharya Shiv Semwal

Aquarius कुम्भ राशिफल 2022 by Acharya Shiv Semwal

Sign And Symbols

  • Zodiac Symbol         –    Water-bearer
  • Duration                    –    2022
  • Constellation            –    Aquarius
  • Zodiac Element       –    Air
  • Zodiac Quality         –    Fixed
  • Sign Ruler                 –    Saturn (ancient), Uranus (modern)
  • Detriment                 –    Sun
  • Exaltation                 –    Mercury
  • Fall                             –    Pluto

.

कुम्भ राशि वाले व्यक्तियों के लिए यह वर्ष उतार‐चढ़ावपूर्ण रह सकता है। विशेष रूप से स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्या एवं अनावश्यक परिवर्तन झेलने पड़ सकते हैं। सेहत सम्बन्धी समस्याएँ जनवरी, फरवरी, जून, सितम्बर तथा अक्तूबर माह में रह सकती है। हालांकि ये समस्याएँ बड़ी नहीं होंगी तथा इनका निराकरण भी शीघ्र हो जाएगा। आर्थिक दृष्टिकोण से यह वर्ष उत्तम रहेगा। विशेष रूप से मई से नवम्बर माह का समय आर्थिक रूप से अच्छा कहा जा सकता है। इस दौरान धन लाभ के योग बनेंगे।

पारीवारिक सुख के दृष्टिकोण से इस वर्ष कुछ समस्याएँ उत्पन्न हो सकती हैं। बड़े भाई‐बहनों से वैचारिक मत‐भेद तथा जीवनसाथी से मनमुटाव हो सकता है। यह समस्या फरवरी, जून, सितम्बर तथा अक्तूबर माह में रह सकती है। नौकरी पेशा वर्ग के लिए यह वर्ष पूर्वार्ध में अनुकूल नहीं है, लेकिन उत्तरार्ध में अच्छा रहने की सम्भावना है। वर्ष के प्रारम्भिक चार माह कुछ परेशानी वाले रह सकते हैं। इस दौरान अपने सहकर्मियों से सावधानी अपेक्षित है। आपको अपने कार्य में पिछड़ने पर समस्या उत्पन्न हो सकती है। कार्यों को समय पर पूरा नही कर पाने अथवा अन्य किसी कारण से अधिकारियों द्वारा निन्दित भी हो सकते हैं। यह समस्या मुख्य रूप से अगस्त, सितम्बर व अक्तूबर माह में रह सकती है, तत्पश्चात्‌ समय आपके पक्ष में हो जाएगा।

व्यापारियों के लिए यह वर्ष उत्तम रहने की सम्भावना है। हालांकि कुछ उतार‐चढ़ाव रह सकते हैं। मई से नवम्बर माह तक का समय आर्थिक लाभ प्राप्ति की दृष्टि से अच्छा कहा जा सकता है।

उपाय
• शनिवार को नीलम पहनें।
• लोहा, स्टील, केायला, सीसा, नीलम, काला नमक, गोल मिरच, काला सूरमा, काली दाल, सरसो का तेल, चमड़ा दान करें।
• मंत्र: ‘प्रां प्रीं प्रौं स: शनैश्चराय नम:’ का जाप शनिवार को दोपहर के समय 23000 बार करें।
• भैरव जी की पूजा करें।

Acharya Shiv Semwal

contact no. +917351206881

Aquarius () is the eleventh astrological sign in the Zodiac, originating from the constellation Aquarius.The water carrier represented by the zodiacal constellation Aquarius is Ganymede, a beautiful Phrygian youth. Ganymede was the son of Tros, king of Troy (according to Lucian, he was also the son of Dardanus). While tending to his father’s flocks on Mount Ida, Ganymede was spotted by Jupiter. The king of gods became enamored of the boy and flew down to the mountain in the form of a large bird, whisking Ganymede away to the heavens. Ever since, the boy has served as cupbearer to the gods. Ovid has Orpheus sing the tale:”The king of the gods was once fired with love for Phrygian Ganymede, and when that happened Jupiter found another shape preferable to his own. Wishing to turn himself into a bird, he none the less scorned to change into any save that which can carry his thunderbolts. Then without delay, beating the air on borrowed pinions, he snatched away the shepherd of Ilium, who even now mixes the winecups, and supplies Jove with nectar, to the annoyance of Juno” (Metamorphoses X 154-160).Aquarius is a summer constellation in the northern hemisphere, found near Pisces and Cetus. It is especially notable as the radiant for four meteor showers, the largest of which is the Delta Aquarid meteor shower in late July and early August.Under the tropical zodiac, the sun is in Aquarius typically between January 20 and February 18, while under the Sidereal Zodiac, the sun is in Aquarius from approximately February 15 to March 14, depending on leap year.

Download Our Mobile App

Our main purpose is to make people available to Vedic astrology experts and Vedpathi Brahmins for Vedic worship through a single online window.